हवस के अंधे
रायबरेली: सरकार नारी सुरक्षा की बात करती है उस को परवान चढ़ाने के लिए प्रयासरत भी है बच्चों के साथ हवस के अंधे लोगो द्वारा हैवानियत ना हो इसके लिए कड़े से कड़े कानून बनाए गए हैं।
मगर समाज में घूम रहे भूखे भेड़िए जिन्हें कानून का जरा सा भी खौफ नहीं और ऐसे ऐसे कृत्य कर देते हैं जो लोगों को सोचने पर मजबूर कर देता है।
हवस का अंधा
ऐसा ही एक मामला डीह थाना क्षेत्र के लोधवारी गांव का सामने आया है जहां पर एक मासूम 7 साल की बच्ची के साथ दुराचार की घटना की गई है।
बताते चलें कि पूरा मामला गांव के ही एक हवस के अंधे लड़के के द्वारा 7 साल की बच्ची के साथ दुराचार करने का मामला प्रकाश में आया है। जिस लड़के ने यह घोर अपराध किया है उसका नाम शिवम है।
उसने लड़की को डरा धमका कर दुराचार किया उसके बाद किसी से कुछ ना बताने के लिए बच्ची जान से मारने को कहा जब लड़की अपने घर पहुंची तो उसकी हालत और ब्लडिंग देखकर घर वालों ने पूछा तो उसने घटना के बारे में बताया
परिवारीजनों ने बच्ची को आनन-फानन में घर से प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र डीह ले गए। जहाँ बच्ची की हालत गंभीर होने पर उसे जिला अस्पताल रायबरेली रेफर कर दिया गया।
जहां पर डॉक्टरों के द्वारा उसका इलाज किया जा रहा है। अपर पुलिस अधीक्षक विश्वजीत श्रीवास्तव का बयान आया है कि आज डीह थाने पर एक सूचना मिली की एक हवस के अंधे 14 साल के लड़के द्वारा 7 साल की लड़की के साथ दुराचार किया गया है।
सूचना मिलते ही पुलिस ने कार्यवाही करते हुए लड़के को पकड़ लिया और उसे ज्यूडिशियल कोर्ट में पेश किया गया आगे की कार्रवाई की जा रही है।
वही हवस के अंधे 14 साल के लड़के द्वारा 7 साल की लड़की को शिकार बनाने के बाद घर पहुची पीड़ित की ब्लडिंग देखकर इस पूरे मामले को पीड़िता का परिवार जान पाया।

By shiraj

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *