झारखण्ड के 13 जिलो में चलेगा मास ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन ( एमडीए ) अभियान

फाइलेरिया एक ऐसी बीमारी है जिससे देश के कई राज्य लगातार जूझ रहे हैं और कई राज्य ऐसे हैं जो इस बीमारी को दूर करने के लिए लगातार प्रयास कर रहे हैं वहीं इसी श्रंखला की कड़ी में झाड़खंड की सरकार में राष्ट्रीय फाइलेरिया उन्मूलन प्रोग्राम के तहत एक कार्यक्रम का आयोजन किया है इस कार्यक्रम के तहत झारखंड के कई जिलों में एक (mda) कार्यक्रम चलाया जाएगा इस कार्यक्रम के अंतर्गत लोगों के घर जा जाकर लोगों को फाइलेरिया जैसी बीमारी के प्रति जहां बताया जाएगा तो वहीं दूसरी तरफ लोगों से इसकी रोकथाम के लिए मेडिसिन का वितरण भी किया जाएगा और साथ ही उनको खिलाया भी जाएगा जिससे जल्द से जल्द इस बीमारी से लोगों को निजात दिलाई जा सके झारखंड के स्वास्थ्य मंत्री ने सोशल मीडिया से बयान जारी करते हुए बताया कि हम लोग लगातार प्रयास कर रहे हैं कि इस बीमारी को दूर किया जा सके और लोगों में जागरूकता लाई जा सके साथ ही उन्होंने बताया कि कोविड-19 को देखते हुए भी लगातार हमारी स्वास्थ्य टीम में काम कर रही हैं इसके साथ ही बताया गया कि 10 तारीख से फाइलेरिया की दवा का वितरण का कार्य चालू हो जाएगा लोगों को घर-घर जाकर इस दवा को खाने और खिलाने का प्रयत्न किया जाएगा साथ ही लोगों को इस बीमारी के प्रति जागरूक भी किया जाएगा और जो लोग अगर दवा पाने से महरूम रह जाते हैं तो उनके लिए भी दवाओं की उपलब्ध कराई जाएगी साथी इस कार्यक्रम में बताया गया कि लोगों को 10 से 20 अगस्त तक फाइलेरिया की दवा का वितरण लोगों के बीच किया जाएगा इस में ध्यान रखा जाएगा कि 2 साल उम्र से कम बच्चे और प्रेग्नेंट महिलाओं और गंभीर रूप से बीमार लोगों को इस दवाओं का सेवन ना कराया जाए इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के अध्यक्ष ने बताया कि फाइलेरिया बीमारी से बीमार व्यक्ति के शरीर के कई अंगों में सूजन आ जाती है अगर समय पर इसका इलाज किया जाए तो जल्द ही इस बीमारी से छुटकारा मिल जाता है वही इस प्रोग्राम में जहां एक तरफ स्वास्थ्य मंत्री ने बयान दिया तो वहीं इस प्रोग्राम में इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के अधिकारियों समेत कई अधिकारी मौजूद रहे

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *