मौत के साए मे काम करने को मजबूर ठाकुरगंज पुलिस-थाने की बिल्डिंग का गिरा छज्जा

थाना ठाकुरगंज में मौत के साये मे काम करने को मजबूर है पुलिसकर्मी थाने की जर्जर हो चुकी बिल्डिंग का आज रात अचानक ही जर्जर हो चुका छज्जा गिर पड़ा।वही अचानक छज्जा गिरने से जहा एक दम थाने में हड़कम्प मच गया। तो वही दूसरी तरफ जर्जर हो चुके छज्जे के मलबे के नीचे कई गाड़िया भी दब गई।गनीमत यह रही कि जिस समय थाने की बिल्डिंग का जर्जर हिस्सा टूट कर गिरा उस समय वहां पर कोई पुलिसकर्मी मौजूद नही था नही तो बड़ा हादसा हो सकता था।

नई बिल्डिंग में नही किया गया है शिफ्ट जिसकी वजह से मौत के साये में काम करने को मजबूर है पुलिसकर्मी।

अगर सूत्रों की माने तो थाने की पुरानी बिल्डिंग काफी समय से जर्जर हो चुकी यहां तक थाने की मेन बिल्डिंग भी जर्जर हालातो मे है।जबकि जर्जर बिल्डिंग को देखते हुए एक नई बिल्डिंग का निर्माण थाने में किया गया है।उसके बावजूद अभी तक थाने को नई बिल्डिंग में नही किया गया है शिफ्ट जिसकी वजह से मौत के साये में काम करने को मजबूर है पुलिसकर्मी।इससे पहले भी कई बार बरसात में थाने की छत टपकने की खबर चल चुकी है।

सूबे के पुलिस मुखिया द्वारा लगातार पुलिस की सुविधा पर धयान देने की बात कही जा रही है।

उसके बावजूद जिम्मेदार अफसर नही देते कोई ध्यान जबकि जर्जर हो चुकी पुरानी बिल्डिंग में पुलिसकर्मी मौत के साये में रह रहे है।वही जर्जर बिल्डिंग के छज्जा गिरने से जहाँ एक बार फिर पुलिसकर्मियों की जान बच गई तो कही ना कहि शासन और प्रशासन के दावों की कलई भी खुलती हुई नजर आ रही है।आखिर दिन रात जनता की सेवा करने वाले पुलिसकर्मियों क्यों मौत के साए में काम करने को मजबूर है।

मौत के साए मे काम करने को मजबूर ठाकुरगंज पुलिस-थाने की बिल्डिंग का गिरा छज्जा।

जबकि सूबे के पुलिस मुखिया द्वारा लगातार पुलिस की सुविधा पर धयान देने की बात कही जा रही है।थाना ठाकुरगंज की बिल्डिंग का छज्जा गिरने से उसके मलबे के नीचे आई कई गाड़िया छतिग्रस्त भी हो गई ।अब देखने वाली बात यह होगी कि थाने की बिल्डिंग के छज्जे गिरने मामले को अला अधिकारी संज्ञान में लेते है या फिर हमेशा की तरह जनता के रखवाले यूही मौत के साए के नीचे काम करने को मजबूर रहेगे यह तो आने वाला समय बतायेगा।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *