लखनऊ हैरीटेज हॉस्पिटल में कोरोना मरीज की मौत-परिजनों ने जमकर की तोड़फोड़

चौक थाना क्षेत्र में स्थित लखनऊ हैरीटेज हॉस्पिटल में कोरोना मरीज की मौत के बाद परिजनों ने जमकर की तोड़फोड़ आपको बता दें कि एक परिवार अपने मरीज का इलाज कराने थाना चौक स्थित लखनऊ हैरिटेज हॉस्पिटल आया था। जहां पर परिजनों ने आरोप लगाया है कि मरीज के इलाज के लिए पहले तो हॉस्पिटल प्रशासन में मरीज को एडमिट कर लिया और कहा कि इलाज में काफी रुपया खर्च होगा जिसको लेकर परिजनों ने कहा कि हमारा मरीज ठीक हो जाए पैसे की हमें चिंता नहीं है।

एंबुलेंस बुलाई और अपने मरीज को ले जाने लगे तो डॉक्टरों ने उनके मरीज को मृत घोषित कर दिया।

जिसके बाद हॉस्पिटल प्रशासन द्वारा लगातार पैसे की डिमांड होने लगी और जिसको मरीज के परिजनों का कहना है कि उन्होंने पूरा किया वही कोरोना मरीज के परिजनों का आरोप था। कि मरीज को कल जब हॉस्पिटल में भर्ती कराया तब डॉक्टरों ने कहा था कि मरीज की हालत ठीक हो जाएगी लेकिन आज शाम को उन्होंने कहा कि आप अपने मरीज को कहीं और इलाज कराने के लिए ले जाइए क्योंकि हमारे हॉस्पिटल में सुविधाएं नहीं है। जिसके बाद जब कोरोना मरीज के परिवार वालों ने एंबुलेंस बुलाई और अपने मरीज को ले जाने लगे तो डॉक्टरों ने उनके मरीज को मृत घोषित कर दिया।

कोरोना मरीज की जान किसी डॉक्टर की लापरवाही या पैसे की तंगी के चलते गई हो।

वही कोरोना मरीज की मौत की सूचना पाकर गुस्साए परिजनों ने हॉस्पिटल परिसर में जमकर तोड़फोड़ की साथ ही साथ परिजनों ने आरोप लगाया कि डॉक्टरों की लापरवाही से उनके मरीज की जान गई है। वहीं हॉस्पिटल में तोड़फोड़ की सूचना पाकर मौके पर पुलिस भी पहुंच गई और मामले की जांच में जुट गई है। यह कोई पहला मामला नहीं है जब किसी कोरोना मरीज की जान किसी डॉक्टर की लापरवाही या पैसे की तंगी के चलते गई हो। इससे पहले भी राजधानी लखनऊ में ऐसे वाक्य होते रहे हैं। लेकिन इनको देखने और सुनने वाला शायद अब कोई भी नहीं रहा।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *