लखनऊ कबीर मठ के प्रशासनिक अधिकारी को मारी गई गोली मारकर बदमाश फरार

राजधानी लखनऊ के हसनगंज स्थित कबीर मठ में उस वक्त हड़कंप मच गया जब कुछ लोग बुकिंग कराने के नाम पर कबीर मठ के प्रशासनिक अधिकारी धीरेंद्र दास को गोली मार देते हैं। वही गोली मारे जाने की सूचना पर स्थानीय लोगों द्वारा पुलिस को सूचना दी जाती है। जिसके बाद मौके पर पुलिस पहुंचकर मामले की छानबीन में जुट जाती है। वही गोलीकांड में घायल हुए कबीर मठ के प्रशासनिक अधिकारी धीरेंद्र दास को फौरन ही पुलिस घायल अवस्था में ट्रामा सेंटर भिजवा देती है।

कबीर मठ के प्रशासनिक अधिकारी को गोली मारी गई जिसके बाद पुलिस ने पहुंच कर तुरंत ही उनको ट्रामा।

जहां पर डॉक्टरों ने  कबीर मठ के प्रशासनिक अधिकारी देवेंद्र दास का इलाज शुरू करने के साथ ही यह बताया कि उनकी स्थिति अब खतरे से बाहर है। वही पूरे मामले पर पुलिस के आला अधिकारी एडिशनल डीसीपी राजेश कुमार श्रीवास्तव का बयान आया है कि कबीर मठ में बुकिंग को लेकर अज्ञात लोगों द्वारा कबीर मठ के प्रशासनिक अधिकारी को गोली मारी गई थी। जिसके बाद पुलिस ने पहुंच कर तुरंत ही उनको ट्रामा सेंटर में एडमिट कराया यहां पर डॉक्टरों ने उनको खतरे से बाहर बताया है।

2015 में भी कबीर मठ के प्रशासनिक अधिकारी धीरेंद्र दास के ऊपर हमला हो चुका है।

वही मौके से गोली मारकर अपराधी फरार हो गए हैं पुलिस उनकी तलाश कर रही है वहीं अगर सूत्रों की मानें तो बताया जा रहा है कि 2015 में भी कबीर मठ के प्रशासनिक अधिकारी धीरेंद्र दास के ऊपर हमला हो चुका है। और छानबीन में मामला आपसी झगड़े का निकल कर आया था। वही जिस तरीके से आज फिर से कबीर मठ में गोली चली है तो कहीं ना कहीं वह आपसी रंजिश की तरफ भी इशारा कर रही है। जिसको लेकर पुलिस अपनी तफ्तीश कर रही है लेकिन जिस तरीके से राजधानी लखनऊ में दिनदहाड़े गोली कांड हो रहा है। उससे कहीं ना कहीं पुलिस के ऊपर भी एक सवालिया निशान खड़ा होता है अब देखने वाली बात यह होगी कि पुलिस इस गोलीकांड मामले में तब तक पर्दा हटा पाती है या तो आने वाला समय बताएगा।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *