पूर्व सांसद धनंजय सिंह द्वारा मृत ईमानदार इंसपेक्टर की मदद करने के-फेसबुक पोस्ट से मचा हड़कंप

जेल में बंद सांसद धनंजय सिंह द्वारा फेसबुक के जरिए कोरोना से मृत इस्पेक्टर के परिवार की मदद करने की पोस्ट से मचा हड़कंप जौनपुर में एक मैनेजर की किडनैपिंग कर कर उससे पैसे मांगे जाने मामले में 3 महीने से जिला जेल में बंद है पूर्व सांसद धनंजय सिंह वही जेल में बंद हो जाने के बावजूद भी उनके फेसबुक अकाउंट से पोस्ट होने मामले में शासन प्रशासन में हड़कंप मचा दिया है बताया जा रहा है कि धनंजय सिंह के फेसबुक अकाउंट पर सोमवार को करोना से मृत पुलिस इंस्पेक्टर की फैमिली की मदद के लिए ₹100000 देने की सूचना दी गई थी। साथ ही दूसरों को भी मदद के लिए आगे आने का आह्वान किया गया है।

इंस्पेक्टर के बैंक खाते में महज 900 कुछ रुपये ही होने की बात सुनकर और मृत इंस्पेक्टर की ईमानदारी की..

धनंजय की इस दरियादिली की जहां चर्चा है तो वहीं दूसरी ओर जेल के अंदर से फेसबुक चलाने को लेकर खलबली भी मच गई है। पूर्व सांसद धनंजय सिंह को कालीकुर्ती स्थित उन्हीं के मकान से गिरफ्तार पुलिस ने किया था पुलिस ने धनंजय सिंह को गिरफ्तार करने के बाद अगले दिन जेल में भेज दिया था।उनके सोशल मीडिया एकाउंट पर भी कोई गतिविधि नहीं थी। सोमवार को अपराह्न करीब तीन बजे अचानक उनके फेसबुक पेज पर एक पोस्ट ने हड़कंप मचा दिया। इस पोस्ट में प्रतापगढ़ में ही तैनात एक पुलिस इंस्पेक्टर की कोविड से मौत हो जाने के बाद इंस्पेक्टर के बैंक खाते में महज 900 कुछ रुपये ही होने की बात सुनकर और मृत इंस्पेक्टर की ईमानदारी की प्रशंसा की गई है।

पूर्व सांसद के इस पोस्ट के बाद खलबली मची हुई है।एक तरफ उनकी दरियादिली की चर्चा है तो दूसरी…

पोस्ट में लिखा गया है कि इंस्पेक्टर के परिवार की मदद के लिए अपने कार्यालय के माध्यम से एक लाख रुपये देने का निर्देश दिया है। हमें हर बात के लिए सिर्फ सरकारी सहयोग की अपेक्षा से बचना चाहिए और सामाजिक सहयोग के स्वभाव को बढ़ावा देना चाहिए। पूर्व सांसद के इस पोस्ट के बाद खलबली मची हुई है।एक तरफ उनकी दरियादिली की चर्चा है तो दूसरी ओर जेल के अंदर से फेसबुक चलाने को लेकर सुरक्षा पर सवाल उठ रहे हैं। संभव है कि किसी करीबी या परिवार के सदस्य ने यह पोस्ट किया हो। जो जांच का विषय बन गया है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *