विधायक निवास की दीवार पर लगाया गया मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ कई बड़े मंत्रियों का विवादित पोस्टर।

राजधानी लखनऊ में एक बार फिर देखने को मिला है पोस्टर वार। इस बार राजधानी लखनऊ के दारू शफा के विधायक निवास की दीवार पर लगाया गया है मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ कई बड़े मंत्रियों का विवादित पोस्टर। बताया जा रहा है कि ब्राह्मणों पर हो रहे अत्याचार को लगाए गए हैं यह पोस्टर वही पोस्टर में ब्राह्मणों पर फरसे से मुख्यमंत्री योगी द्वारा हमला करने की तस्वीर को भी दर्शाया गया है।

डॉक्टर और करोना मरीज को दर्शाते हुए लिखा है कि कोरोनावायरस की आड़ में हुई हैं धन की उगाही,,

साथ ही साथ उनके पीछे उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या के साथ बीजेपी के कई नेताओं का पोस्टर में लगाया गया है फोटो इसी के साथ इस पोस्टर में बेटी बचाओ भाजपा भगाओ बंद करो ब्राह्मणों पर अत्याचार ना भ्रष्टाचार ना गुंडाराज अबकी बार अखिलेश सरकार स्लोगन को भी लिखा गया है साथ ही इस विवादित पोस्टर में डॉक्टर और करोना मरीज को दर्शाते हुए लिखा है कि कोरोनावायरस की आड़ में हुई हैं धन की उगाही,,वहीं राजधानी लखनऊ में लगाए गए इस विवादित पोस्टर के बारे में बताया जा रहा है कि यह पोस्टर समाजवादी पार्टी के प्रदेश सचिव छात्र सभा विकास यादव द्वारा लगाया गया है।

सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव को दिखाया गया है ब्राह्मणों का रक्षक।

इस विवादित पोस्टर में भगवान परशुराम की फोटो के साथ सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव को दिखाया गया है ब्राह्मणों का रक्षक।आपको बता दें कि राजधानी लखनऊ में यह कोई पहली बार विवादित पोस्टर नहीं लगाया गया है ।इससे पहले भी कई बार विवादित पोस्टर लगाए जा चुके हैं। वही विवादित पोस्टर लगे होने की जानकारी जैसे ही शासन और प्रशासन को लगी तो उन्होंने तुरंत ही इन विवादित पोस्टरओं को दारुल सफा की दीवार से हटवाया। साथ ही आपको बताते चलें कि उत्तर प्रदेश में में सपा और कांग्रेस लगातार कानून व्यवस्था को लेकर धरना प्रदर्शन भी कर रहे हैं। जिसको देखते हुए यह पोस्टर इस बार सपा पार्टी की तरफ से छात्र सभा के नेता ने लगवाया है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *