पहले तो बेटे की हत्या फिर मां बेटी को किया परेशान-मां बेटी ने किया गांव से पलायन।

मा बेटी

पहले तो बेटे की हत्या फिर मां बेटी को किया परेशान-मां बेटी ने किया गांव से पलायन।घर पर मकान बिकाऊ का पोस्टर भी चिपका.

हाथरस। बेटे की हत्या के 22 दिन बाद दबंगो के डर से माँ ने अपनी बेटी के साथ गांव से पलायन कर दिया, और अपने घर पर मकान बिकाऊ का पोस्टर भी चिपका दिया, दबंगो के डर से गांव से पलायन करने के मामले में राष्ट्रीय सवर्ण परिषद के राष्ट्रीय प्रचारक पंकज धावरैय्या परिवार को न्याय दिलाने के लिए पीड़ित परिवार और कार्यकर्ताओ के साथ पहले तो सदर तहसील परिसर में धरना प्रदर्शन किया, उसके बाद गुस्साए ब्राह्मण समाज ने हत्यारो की गिरफ़्तारी के साथ पीड़ित परिवार सुरक्षा प्रदान कराये जाने की मांग करते हुए शहर के तालाब चौराहे पर चक्का जाम कर दिया।

दो बीजेपी नेता और नोयडा चर्चित हत्याकांड का अपराधी मिर्ची गैंग का सरगना गिरफ्तार।

मा बेटी
बता दें पूरा मामला जिले के थाना कोतवाली सिकन्दराराऊ क्षेत्र के बसाई बावस गांव का है, यहां बीती 16 अगस्त को बसाई बावस गांव के रहने वाले स्व, रमेश चंद्र शर्मा के बेटे सौरभ शर्मा की गांव के ही 6 दबंगो ने हत्या कर दी, जिसका मुकदमा थाना कोतवाली सिकंदराराऊ पर दर्ज किया गया, पीड़ित परिवार का आरोप है की घटना को 20 दिन से अधिक बीत जाने के बाद भी पुलिस द्वारा कोई कार्यवाही नहीं की है, और दबंग लगातार मृतक सौरभ शर्मा की बाहन और माँ को धमकिया दे रहे थे जिसकी बजह से पीड़ित माँ ने अपनी बेटी के साथ सोमवार को गांव से पलायन कर दिया,

कोविड19 प्रोटोकॉल का खुलेआम उल्लंघन, बार बालाओं के साथ लगाय गयं ठुमके, मुकदमा दर्ज

परिवार को न्याय न मिलने के कारण गांव से पलायन किये जाने की जानकारी जैसे ही राष्ट्रीय सवर्ण परिषद के राष्ट्रीय प्रचारक पंकज धावरैय्या को हुई तो आक्रोशित ब्राह्मण समाज ने पहले तो परिवार के साथ सदर तहसील परिसर में धरना प्रदर्शन किया, उसके बाद गुस्साए ब्राह्मण समाज ने हत्यारो की गिरफ़्तारी के साथ पीड़ित परिवार को सुरक्षा प्रदान कराये जाने की मांग करते हुए शहर के तालाब चौराहे पर चक्का जाम कर दिया, जिसके बाद वाहनों लम्बी लाइन लग गई, सुचना मिलते ही दो थानों की पुलिस फ़ोर्स के साथ सीओ सदर रामशब्द, ज्वॉइन मजिस्ट्रेट प्रेमप्रकाश मीणा पंहुच गए, ज्वॉइन मजिस्ट्रेट प्रेमप्रकाश मीणा ने गुस्साए लोगो को समझा कर शांत कराते हुए जाम को खुलवा दिया।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *