खस्ताहाल पुल से निकलने को मजबूर है स्कूल के मासूम बच्चे-कभी भी हो सकता बड़ा हादसा

पुल

साथ ही हो सकता है बहुत बड़ा हादसा लेकिन शासन और प्रशासन अपनी आंख मूंदकर के कर रहे हैं किसी बड़े हादसे के इंतजार।

भले ही उत्तराखंड को बने बीस साल हो गये हो लेकिन जनपद चमोली के विकासखण्ड पोखरी का दुरस्त क्षेत्र हापुला घाटी आज भी कई  मूलभूत सुविधाओं से बंचित है ।बताते चलें कि  गुडम से राजकीय इंटर कालेज गोदली   जाने के लिए आज से तीस साल पहले पुल का निर्माण किया गया था  जिसमे आज भी कई गांवों के लोग आवाजाही करते है । और इससे बड़ी बात यह कि इस पुल से दो तीन सौ बच्चे कालेज जाते हैं ।लेकिन दो साल पहले से इस पुल की स्थिति बड़ी दयनीय बनी हुई है। पुल  कभी भी गिर सकता है। साथ ही हो सकता है बहुत बड़ा हादसा लेकिन शासन और प्रशासन अपनी आंख मूंदकर के कर रहे हैं किसी बड़े हादसे के इंतजार

लखनऊ में नाबालिक लड़की के साथ दो भाइयों ने दो दिन किया दुष्कर्म-बाद में करना चाहा लव जिहाद

पुल1
वही स्थानीय लोगो का कहना है कि कई बार प्रसासन को अवगत करवाया जा चुका है। पर आज तक इस पुल का संज्ञान किसी ने भी नही लिया। पोखरी ब्लॉक में आजकल बडे बडे मंत्री भी इसी क्षेत्र के हैं लेकिन अभी भी लोगों को मूलभूत सुविधाएं नहीं मिल पा रही है। चाहे वो काग्रेंस की सरकार हो या भाजपा की आज भी वह पुल अपनी खस्ता हालात पर रो रहा है। न जाने अब इस पुल का निर्माण होगा या नही विभाग भी सोया है। लेकिन क्षेत्र की जनता आज भी 21वीं शदी में पुल की आस लगाये बैठी है। कब होगा पुल का जीणोद्धार।

स्कूल में बच्चों से छुपकर अश्लील हरकत करते वीडियो में कैद हुए शिक्षक शिक्षिका-बच्चों ने बताया लोगो को

पुल की खस्ता हालत को देखते हुए इस बात का अंदाजा साफ तौर पर लगाया जा सकता है कि सरकार द्वारा किए गए वादों की कहीं ना कहीं यह खस्ताहाल पुल पोल खोलता हुआ नजर आ रहा है। लेकिन सरकार के वादों के पीछे आखिर किस तो रही है जनता जिसको गुजर ना होता है इस हफ्ते हाल पुल के ऊपर से

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *