यूपी मे बिना वारंट होगी गिरफ़्तारी, तलाशी समेत मिले ये पॉवर,स्पेशल सिक्योरिटी फोर्स का गठन

Ssf1

एडीजी स्तर का अधिकारी यूपी एसएसएफ का मुखिया होगा। बिना वारंट गिरफ़्तारी, तलाशी समेत मिले कई अधिकार।

उत्तर प्रदेश में एक अलग फोर्स का गठन होने जा रहा है जो बिना वारंट के कर सकती है गिरफ्तार और ले सकती है तलाशी। जी हां बिल्कुल एक बार फिर एक नई फोर्स का गठन हो रहा है। जिसका नाम यूपीएसएसएफ रखा गया है। बताया जा रहा है कि UPSSF के गठन का प्रस्ताव पूर्व डीजीपी ओपी सिंह ने दिया था। जिसके ऊपर योगी सरकार लगातार विचार विमर्श कर रही थी और इस की जरूरतों को समझते हुए अब इस को असली जामा पहना दिया गया है। साथ ही बताया जा रहा है कि यूपी एसएसएफ़ के गठन को मंजूरी दे दी गई है।इससे पहले भी कई फोर्स के तर्ज पर कई नई टीम यानी की फोर्सों का गठन किया जा चुका है।यूपी स्पेशल सिक्योरिटी फोर्स का गठन, बिना वारंट गिरफ़्तारी, तलाशी समेत मिले कई अधिकार।

राज्यपाल जी ने शायद कंगना रनौत को मास्क लगाकर आओ कहना जरूरी नही समझा..

Ssf

यूपी एसएससी के गठन के बाद अब इसका मुख्यालय उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में बनाया जाएगा। इस फोर्स का मुखिया एडीजी स्तर के अफसरों को ही बनाया जायेगा। साथ ही आपको बता दें कि सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 26 जून को उपयोगिता को देखते हुए विशेष सुरक्षा बल के गठन को मंजूरी भी दे दी थी। वहीं यूपी स्पेशल सिक्योरिटी फोर्स (UP Special Security Force) के गठन की अधिसूचना जारी हो गई है शासन की तरफ से साथ ही यूपी एसएसएफ (UP SSF) को सरकार ने बिना वारंट गिरफ्तारी और तलाशी की जहां पावर दी है तो वही इसके अलावा भी ढेर सारी शक्तियां इस फोर्स को दी गई है। इसके साथ ही सबसे बड़ी बात यह है कि यूपी स्पेशल सिक्योरिटी फोर्स (UP Special Security Force) को सरकारी दफ्तर इमारतें और औद्योगिक प्रतिष्ठानों की भी सुरक्षा की जिम्मेदारी दी जाएगी। इसके अलावा सबसे अहम बात यह है कि प्राइवेट कंपनियां भी मोटी रकम देकर इस स्पेशल सर्विस फोर्स की सेवा ले सकती है। साथ ही यूपी स्पेशल सिक्योरिटी फोर्स (UP Special Security Force) के कर्मचारियों और अधिकारियों के खिलाफ कोर्ट जब तक संज्ञान नहीं लेगा जब तक सरकार इसकी इजाजत नहीं देती है।

दबंग महिला ने पहले तो युवक को लाठी से पीटा किया अमानवीय हरकत-तस्वीरों में कैद हुई हरकत।

यूपी एसएसएएफ के गठन की मंजूरी मिलने के बाद गृह विभाग ने भी अधिसूचना जारी कर दी है। इसमें बताया गया है कि शुरुआती दौर में इस फोर्स के पांच बटालियन होंगी। साथ ही यह फोर्स अलग ही अधिनियम के तहत अपने कार्यों को अंजाम देगी। इस फोर्स को किसी को भी गिरफ्तार करने के लिए वारंट की जरूरत नहीं होगी साथ ही तलाशी लेने के लिए भी।बताया जा रहा है कि UPSSF के किसी भी कर्मचारियों को अगर किसी पर शक है और विश्वास है कि वह शख्स अपराधी है या कोई अपराध करने जा रहा है या किसी तरीके का अपराधों का साक्ष्यों को मिटाने की कोशिश कर रहा है तो बिना वारंट उसको गिरफ्तार किया जा सकता है और उसकी तलाशी भी ले सकता है। लेकिन यह जरूरी है कि एसएसएफ को यह यकीन होना चाहिए कि सामने वाला अपराधी है। अब देखने वाली बात यह होगी कि उत्तर प्रदेश में कई फोर्स का गठन इससे पहले भी किया जा चुका है। लेकिन यूपी एसएसएफ के गठन से यूपी की राजनीतिक मे भूचाल भी आ चुका है। बताया जा रहा है कि इस फोर्स की सेवा प्राइवेट सेक्टर में भी अच्छी खासी पेमेंट देकर ली जा सकती है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *