केदारनाथ रूट मे सर्च अभियान के दौरान मिले नरकंकाल-पुलिस और SDRF की टीम ने खोजा

केदारनाथ3

वही केदारनाथ के मार्ग पर मिला नर कंकाल कहीं ना कहीं लोगों में चर्चा का विषय बन गया।

बताया जा रहा है कि साल 2013 के जून महीने और 16-17 तारीख को केदारनाथ क्षेत्र में प्राकृतिक भीषण जलप्रलय और आपदा आई थी। जिसके चलते जान और माल दोनों का काफी नुकसान हुआ था।इसी के साथ कहा जा रहा है कि केदारनाथ में आई प्राकृतिक भीषण जलप्रलय और आपदा ने कई लोगों की जिंदगी को निगल लिया था। जिनका आज भी यानी 7 साल बीत जाने के बाद भी नर कंकाल मिलने का सिलसिला लगातार जारी है।

“तुम मायके चली जाओगी मैं टावर पर चढ़ जाऊंगा” पति चढ़ा टावर पर

केदारनाथ
इस साल भी प्राकृतिक कहर के चलते कई लोग लापता हुए थे। उनके भी एसडीआरएफ(SDRF)  ने नर कंकाल बरामद किए है। आपको बता दें कि प्राकृतिक आपदा में खोए हुए लोगों को ढूंढने के लिए रुद्रप्रयाग पुलिस और एसडीआरएफ के साथ 10 टीमों का गठन हुआ था। जिनको केदारनाथ के चारों कोनों की खोजबीन करने की जिम्मेदारी दी गई थी।वही इस काम में अहम भूमिका निभा रहे हैं पुलिस अधीक्षक नवनीत सिंह द्वारा भी सघन खोजबीन अभियान चलाया जा रहा है। लगातार नर कंकाल मिलने का सिलसिला अभी भी जारी है।

लड़के की चाहत में पति ने ‘गर्भवती पत्नी का लोहे की हसिए से फाड़ा पेट-जानना चाहता था पेट मे पल रहे शिशु का लिंग

केदारनाथ2

इन टीमों ने प्राकृतिक आपदा में गुम हुए लोगों को खोजने के लिए केदारनाथ से होते हुए गोमुखड़ा,त्रिजुगी नारायण से गरुण चट्टी, तोसी और सोनप्रयाग की ओर गई टीमों को गौरी माई खर्च के आसपास के क्षेत्र में खोजबीन करते हुए प्राकृतिक आपदा में लापता हुए 4 नर कंकाल यानी कि अस्थि अवशेष बरामद हुए हैं। नर कंकालों को अधिकारियों ने सोनप्रयाग भेजा दिया है। जहां पर सभी प्रक्रिया को पूरा करते हुए पहले तो डीएनए सैंपल की कार्यवाही की गई और पंचायतनामे की भी। इसी के साथ मंदाकिनी और सोन नदी के संगम पर सभी नर-कंकालों (अस्थि-अवशेषों) का विधिवत अंतिम संस्कार भी किया गया है।

गाजीपुर-नंबर वन के झूठे है प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी-पूर्व मंत्री ओमप्रकाश राजभर ने दिया विवादित बयान

केदारनाथ1
अगर लोगों की माने तो लोगों का कहना है कि अभी भी कई अनजान लोग 2013 में आई हुई आपदा और लगातार हो रही घटनाओं के चलते मौत के मुंह में समा गए थे। जिनको अभी भी तलाशना सभी की जिम्मेदारी है और जिसको पुलिस प्रशासन और एसडीआरएफ SDRF पूरा कर रही है। वही केदारनाथ के मार्ग पर मिला नर कंकाल कहीं ना कहीं लोगों में चर्चा का विषय बन गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *