प्रतापगढ़ SDM बैठे धरने पर जिलाधिकारी पर लगाया भ्रष्टाचार करने का आरोप

DM
प्रतापगढ़-एसडीएम को भ्रष्टाचार की जांच का खुलासा और उसे शासन स्तर पर भेजने की मिली सजा। जिसको लेकर DM आवास पर SDM बैठ गए धरने पर। डीएम आवास के अंदर  एसडीएम के धरने पर बैठने की सूचना जैसे ही  पुलिस को भी तो पुलिस के लिए आला अधिकारी मौके पर आ गए  उसके साथ ही मीडिया को जब एसडीएम के  धरने पर बैठने की जानकारी हुई तो मीडिया भी आ गई  लेकिन  पुलिस ने उनको DM आवास के अन्दर जाने पर रोका दिया।

रामपुर-आशिक़ मिजाज़ बहु के प्रेमी सहित पुलिस कर्मियों की पिटाई.

Sdm
प्रतापगढ़ मे डीएम आवास के अंदर धरने पर बैठे एसडीएम विनीत उपाध्याय। SDM विनीत उपाध्याय ने प्रतापगढ़ डीएम ,एडीएम और एसडीएम सदर पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाकर इस मामले को शासन स्तर पर भेज दिया था। इसके बाद जब मामले की जानकारी डीएम डा० रूपेश कुमार को हुई तो उन्होने इन्हे किसी भी एरिया का एसडीएम नहीं बनाया सिर्फ उन्हे अतिरिक्त SDM बनाकर रखा। इसके बाद उन्हे अपने आवास पर बुलाया तब उनसे पूंछा गया कि आपने आरोप क्यों लगाया। तब इसी बात से एसडीएम विनीत उपाध्याय वह धरने पर बैठ गये। जिससे डीएम आवास पर मचा हड़कम्प मच गया। जब इसकी जानकारी मीडिया को हुई तो वह DM आवास पहुंच गये उन्हे अंदर जाने पर पुलिस ने लगाई रोक।

छेड़छाड़ के आरोपी समेत भाजपाइयों ने थाने का किया घेराव,भाजपा नेता पर FIR के विरुद्ध किया प्रदर्शन।

सीओ समेत भारी पुलिस बल डीएम आवास के अंदर तैनात कर दिया गया। इस पर ADM शत्रुघन वैश्य DM आवास से बाहर निकले और मीडिया से रूबरू हुये। उन्होंने उल्टा ही SDM विनीत उपाध्याय पर ही कई गम्भीर आरोप लगा दिये। उन्होंने कहा कि एसडीएम विनीत उपाध्याय की एक जांच चल रही है जिसकी एक वीडियो भी है उस वीडियो में शारदा और से एसडीएम विनीत उपाध्याय गुस्से में आकर बदतमीजी करते हुए नजर आ रहे हैं जिसकी जांच चल रही थी और उसने वहां दोनों पक्षों में बैलेंस रखने में कामयाब नहीं रहे थे और अपने पद की गरिमा बरकरार नहीं रखी थी और आवेश में आकर वहां मौजूद गार्ड की बंदूक छीनने की कोशिश की थी जिसके चलते आज इनको यह बात बुरी लगी और यह साहब यानी कि DM साहब के कमरे में आकर गुस्सा करने लगे। जिसके बाद यह धरने पर भी बैठ गए। बरहाल SDM साहब को समझा-बुझाकर पुलिस अपने साथ ले गई अब देखने वाली बात यह होगी कि एसडीएम और डीएम के लड़ाई में योगी सरकार में हो रहे भ्रष्टाचार के ताले खुल पाती है या मामला दब के रह जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *