Home देश नाथूराम गोडसे को आज के दिन हुई थी फांसी-तीन गोली मारकर की...

नाथूराम गोडसे को आज के दिन हुई थी फांसी-तीन गोली मारकर की थी महात्मा गांधी की हत्या

  • नाथूराम गोडसे को आज के दिन हुई थी फांसी-तीन गोली मारकर की थी महात्मा गांधी की हत्या

  • आज ही के दिन हुई थी नाथूराम गोडसे को फांसी-पैर छूने के बाद की थी महात्मा गांधी की हत्या

आज ही के दिन यानी कि 15 नवंबर को महात्मा गांधी की हत्या के जुर्म में नाथूराम गोडसे को फांसी की सजा दी गई थी। 30 जनवरी 1948 में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की छाती पर तीन गोली मारकर गोडसे ने उनकी हत्या कर दी थी। दिल्ली स्थित बिड़ला भवन में बापू रोज की तरह प्रार्थना किया करते थे जहां पर 30 जनवरी 1948 की शाम को गोडसे ने बापू के पैर छूने के बहाने उनको बरेटा पिस्तौल से गोलियां दागकर हत्या कर दी थी। नाथूराम का जन्म ब्राह्मण परिवार में 19 मई 1910 में महाराष्ट्र के पुणे के बारामती में हुआ था साथ ही उन्होंने हाई स्कूल की परीक्षा बीच में छोड़ दी थी। इससे पहले भी गोडसे कई बार राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की हत्या का प्रयास कर चुके थे। कहां जाता है कि नाथूराम के पैदा होने के बाद उनको नथ पहनाई गई थी जिसके चलते उनका नाम नाथूराम पड़ा था जिसको बाद में उन्होंने निकाल भी दी थी। इसके साथ ही गोडसे ने अपना खुद का “हिंदू राष्ट्र” के नाम से एक समाचार पत्र भी निकाला था। लेकिन गौरतलब है कि नाथूराम गोडसे को पहली बार जब जेल जाना पड़ा था तो वहां महात्मा गांधी के सत्याग्रह आंदोलन के वजह से गए थे। महात्मा गांधी उनके पहले आदर्श थे लेकिन देश के बंटवारे के बाद से महात्मा गांधी को लेकर उनके मन में उनके प्रति कटुता बढ़ गई थी। जिसकी वजह से वह 1937 में सावरकर से जा जुड़े और उनको अपना गुरु भी मान लिया। कहा जाता है कि गोडसे हिंदूवादी थे जिसके चलते बंटवारे के समय हुए हिंदुओं के नरसंहार को देखते हुए उनके मन में गांधी को लेकर हीन भावना जाग उठी थी जिसकी वजह से उन्होंने यह कदम उठाया था। देश में आज भी बहुत सारे ऐसे संगठन हैं जो उनकी पूजा करते हैं और उनको अपना आदर्श भी मानते हैं और उनके द्वारा गांधी की हत्या को जायज भी ठहराते हैं।

सुशील मोदी ने कहा कोई नहीं छीन सकता कार्यकर्ता का पद कौन बनेगा डिप्टी सीएम? बिहार

महात्मा गांधी

जिस समय देश के बंटवारे की तैयारियां चल रही थी उस समय हिंदूवादी दल और गोडसे के साथ उनके साथी बंटवारे के विरोध में उतर पड़े थे। 3 जुलाई 1947 को वह और उनके साथियों ने शोक दिवस के रूप में इस दिन को मनाया भी था। यही नहीं वह और उनके साथी देश के बंटवारे के दौरान हुई संप्रदायिक हिंसा में हिंदुओं की हत्या को लेकर महात्मा गांधी को इसका जिम्मेदार मानते थे। जिसके चलते गोडसे ने 30 जनवरी 1948 की शाम बिड़ला भवन में पहुंचकर पहले तो महात्मा गांधी के पैर छुए और पैर छूने के बहाने अपनी बरेटा पिस्तौल से तीन गोलियां दाग कर गांधी जी की हत्या कर दी थी। गांधी की हत्या का मुकदमा लाल किले में चलाया गया था। इस अदालत में पहुंचने के लिए सभी को उस समय मजिस्ट्रेट के साइन वाले 1 पास की जरूरत हुआ करती थी। बिना उस पास के कोई भी लाल किले के अंदर लगी अदालत में नहीं पहुंच सकता था। इस पूरे मामले में अभियोजन पक्ष के 149 गवाह थे साथ ही इस पूरे मामले में कोर्ट ने सवाल और जवाब का तर्जुमा हिंदी मराठी और तेलुगु में भी दर्ज किया था। जब नाथूराम गोडसे से पूछा गया कि आखिर वह गांधी को मारने से पहले उनके आगे क्यों झुके थे तो इस पर उन्होंने जवाब दिया था कि जैसे अर्जुन ने द्रोणाचार्य के चरणों में बाण मारकर उन्हें जिस तरीके से प्रणाम किया और फिर दूसरे ही बाण में उनका वध किया वैसे ही उन्होंने भी पहले गांधी जी को प्रणाम किया था और फिर उनका हत्या की थी। जिसके बाद 15 नवंबर 1949 की सुबह जेल के अहाते में ही गोडसे के साथ उनके साथ ही साथी आप्टे को फांसी की सजा दे दी गई थी। जिसके बाद कहा जाता है कि दोनों का दाह संस्कार भी जेल की चारदीवारी के भीतर ही किया गया था।

यह भी पढ़े:-लखनऊ-साइबर सेल और पुलिस ने अमेजॉन कम्पनी से लाखो की ठगी करने वाला को किया अरेस्ट

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

परिवार की मर्जी के बिना शादी करना पड़ा भारी-प्यार के दुश्मनों के भेंट चढ़ी एक और प्रेम कहानी

प्यार के दुश्मनों के भेंट चढ़ी एक और प्रेम कहानी-सपा नेता पति ने लगाया परिवार पर आरोप परिवार की मर्जी के बिना शादी...

अगर करते है आप अधिक फोन का इस्तेमाल तो होशियार-इन जानलेवा रोग के हो सकते शिकार

अधिक फोन का इस्तेमाल करने से कौन-कौन से रोग उत्पन्न हो रहे है? जाने अगर करते है आप अधिक फोन का इस्तेमाल तो...

आईजी रेंज और सर्विलांस की टीम ने किया नक़ली खाद फैक्ट्री का भंडाफोड़-हजारों बोरिया बरामद

नकली खाद फैक्ट्री का आईजी रेंज ने किया भंडाफोड़-हजारों बोरियां नकली खाद हुई बरामद आईजी रेंज और सर्विलांस की टीम ने किया नक़ली...

कंगना रनौत टि्वटर वार में पड़ी अकेली-दिलजीत को मिला बॉलीवुड एक्टर्स का समर्थन

कंगना रनौत टि्वटर वार में पड़ी अकेली-दिलजीत को मिला बॉलीवुड एक्टर्स का समर्थन कंगना ने कहा तेरे जैसों की चमची नहीं-दिलजीत को मिला...

Recent Comments

%d bloggers like this: