Home देश महज कुछ घण्टो मे ही बिहार के शिक्षा मंत्री को देना पड़ा...

महज कुछ घण्टो मे ही बिहार के शिक्षा मंत्री को देना पड़ा इस्तीफा-भ्रष्टाचार मे घिरे थे मेवालाल चौधरी

  • महज कुछ घण्टो मे ही बिहार के शिक्षा मंत्री को देना पड़ा इस्तीफा-भ्रष्टाचार मे घिरे थे मेवालाल चौधरी

  • बिहार के शिक्षा मंत्री मेवालाल चौधरी को 72 घण्टो मे ही देना पड़ा इस्तीफा-भ्रष्टाचार का आरोप

कुछ ही घंटों में बिहार सरकार में शिक्षा मंत्री बनाए गए डॉक्टर मेवालाल चौधरी (Dr. Mewalal Chaudhary) को विपक्ष द्वारा भ्रष्टाचार के आरोप लगाए जाने के बाद इस्तीफा देना पड़ा है। बिहार में अभी नई नवेली नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) की जहा सरकार बनी तो वही भ्रष्टाचार के आरोपों के चलते महज 72 घंटों में ही शिक्षा मंत्री को पद से इस्तीफा देना पड़ा है। मेवालाल पर लालू प्रसाद यादव (Lalu parshad Yadav) समेत आरजेडी ने हमला बोला था। आरजेडी (RJD) के राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव ने अपने ट्विटर अकाउंट से ट्वीट करके कहा था कि तेजस्वी जहां पहली कैबिनेट में दस लाख नौकरी देने के प्रतिबद्ध था तो वहीं दूसरी तरफ नीतीश कुमार ने अपनी कैबिनेट में नियुक्ति घोटाले करने वाले डॉक्टर मेवालाल चौधरी को मंत्री बना कर अपनी प्राथमिकता बता दिया है। यही नहीं इसके अलावा तेजस्वी यादव (Tejasvi Yadav) ने भी जमकर नीतीश सरकार पर हमला किया है।

International Men’s Day 2020-पुरुष दिवस क्या है-कब से इसको मनाया गया

Mewalal

गुरुवार को नीतीश कुमार और एनडीए (NDA) की सरकार में शिक्षा मंत्री बनाए गए मेवालाल चौधरी को मंगलवार को अपने पद से इस्तीफा देना पड़ा। आपको बताते चलें कि चौधरी के सबौर विश्वविद्यालय के कुलपति रहते हुए नियुक्ति घोटाले के चलते मामला दर्ज हुआ था। यह केस भागलपुर एडीजी (ADG) के पास अभी भी विचाराधीन है और फिलहाल चार्जशीट का इंतजार हो रहा है। हैरान करने वाली बात यह रही की जहा एक तरफ नीतीश कुमार (Nitish) लगातार भ्रष्टाचारियों के खिलाफ कार्यवाही करने का दम भरते हैं तो वहीं उन्हीं के द्वारा भ्रष्टाचार के आरोप लगे होने के बावजूद भी डॉक्टर मेवालाल चौधरी (Dr. Mewalal Chaudhary) को मंत्री बनाए जाने को लेकर लोगों में चर्चा भी जोर पर होने लगी है। 2015 में पहली बार जेडीयू (JDU) से विधायक बने थे। मेवालाल विधायक बनने से पहले वह शिक्षक के तौर पर अपनी सेवाएं दे रहे थे। कृषि विश्वविद्यालय में कुलपति रहते हुए 2012 में जूनियर वैज्ञानिकों और सहायक अध्यापकों की बहाली हुई थी। जिसमें आरोप लगा था कि इस नियुक्ति में धांधली बाजी की गई है। जिसको लेकर सौबुर थाने में 2017 में मामला भी दर्ज किया गया। जिसमें कोर्ट से मेवालाल को जमानत लेनी पड़ी थी इसके अलावा कोर्ट में अभी तक उनके खिलाफ चार्जशीट दाखिल भी नहीं की गई है। बरहाल विपक्ष के हमले के बाद आखिरकार भ्रष्टाचार के आरोप के चलते शिक्षा मंत्री को महज कुछ ही घंटे में बिहार सरकार से अपना इस्तीफा देना पड़ा जिसके चलते बिहार सरकार की काफी फजीहत हो रही है।

Read-पाकिस्तान रेजर की ओर से यूपी के रहने वाले भारतीय नागरिक को गया छोड़ा-पंजाब

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

कोरोना वैक्सीन लेने के बाद भी स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज संक्रमित, ट्रायल में ली थी वैक्सीन

कोरोना वैक्सीन लेने के बाद भी स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज संक्रमित, ट्रायल में ली थी वैक्सीन Haryana Minister Anil Vij-कोरोना वैक्सीन लेने के...

परिवार की मर्जी के बिना शादी करना पड़ा भारी-प्यार के दुश्मनों के भेंट चढ़ी एक और प्रेम कहानी

प्यार के दुश्मनों के भेंट चढ़ी एक और प्रेम कहानी-सपा नेता पति ने लगाया परिवार पर आरोप परिवार की मर्जी के बिना शादी...

अगर करते है आप अधिक फोन का इस्तेमाल तो होशियार-इन जानलेवा रोग के हो सकते शिकार

अधिक फोन का इस्तेमाल करने से कौन-कौन से रोग उत्पन्न हो रहे है? जाने अगर करते है आप अधिक फोन का इस्तेमाल तो...

आईजी रेंज और सर्विलांस की टीम ने किया नक़ली खाद फैक्ट्री का भंडाफोड़-हजारों बोरिया बरामद

नकली खाद फैक्ट्री का आईजी रेंज ने किया भंडाफोड़-हजारों बोरियां नकली खाद हुई बरामद आईजी रेंज और सर्विलांस की टीम ने किया नक़ली...

Recent Comments

%d bloggers like this: