Home उत्तर प्रदेश Covid -19 vaccine: कोवैक्सीन ट्रायल डोज के बाद वॉलंटियर की संगिध मौत,...

Covid -19 vaccine: कोवैक्सीन ट्रायल डोज के बाद वॉलंटियर की संगिध मौत, परिवार ने वैक्सीन पर उठाए सवाल

  • Covid -19 vaccine: कोवैक्सीन ट्रायल डोज के बाद वॉलंटियर की संगिध मौत, परिवार ने वैक्सीन पर उठाए सवाल

  • Covid Vaccine: वॉलंटियर की कोवैक्सीन ट्रायल डोज के 9 दिन बाद संगिध मौत-वैक्सीन पर उठे सवाल

एक तरफ जहां कोरोनावायरस को देखते हुए कोविशील्ड और कोवैक्सिन का ट्रायल आम इंसानों पर किया जा रहा है। तो वहीं दूसरी तरफ आईसीएमआर और भारत बायोटेक द्वारा निर्माण की गई स्वदेशी कोविड-19 (कोवैक्सीन) का फाइनल ट्रायल 7 जनवरी को पूरा हुआ है। जिसके बाद इस वैक्सीन का 26000 से ज्यादा लोगों पर देश भर में ट्रायल टीका भी लगाया गया।

कानपुर चिड़ियाघर में बर्ड फ्लू आतंक-लखनऊ जू में बर्ड फ्लू को लेकर जारी हुआ अलर्ट

कोवैक्सीन के टीकाकरण के बाद एक बड़ी खबर सामने आई है। जहां पर बताया जा रहा है कि भोपाल के पीपुल्स मेडिकल कॉलेज में 45 वर्षीय वालंटियर दीपक मरावी को 12 दिसंबर को टीका लगाया गया था। जिसके बाद 21 दिसंबर को उनकी अचानक ही मौत हो गई। जिसको लेकर कोरोना वायरस के खिलाफ किए जा रहे टीकाकरण पर और उसकी वैक्सीन पर मृतक के परिवार वालों ने सवाल उठाए हैं। यही नहीं इस खबर को लेकर ट्विटर के ऊपर कांग्रेस के बड़े नेता दिग्विजय सिंह के साथ कई अन्य लोगों ने भी सवाल उठाए हैं।

 

ट्विटर ने अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के अकाउंट को किया हमेशा के लिए बैन

भारत बायोटेक और आईसीएमआर द्वारा बनाई गई स्वदेशी कोरोना वैक्सीन (कोवैक्सीन) का टीकाकरण करवाने वाले 45 वर्षीय वालंटियर दीपक मरावी कि जहां घर पर अचानक मौत हो गई तो वही बताया गया कि मृतक टीला जमालपुरा स्थित सूबेदार कॉलोनी में रहता था। जहां पर वह अपने घर में ही मृत मिला है। यही नहीं उसके मृत शरीर में बताया गया है कि जहर मिलने की पुष्टि हुई है। हालांकि 26000 से अधिक लोगो पर कोवैक्सीन के ट्रायल डोज मे यह पहला मौत का मामला सामने आया है।

पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी के लिये जासूसी करते पकड़ा गया पूर्व सैनिक सौरभ शर्मा-ATS ने किया गिरफ्तार

कोरोना वैक्सीन के टीकाकरण लगवाने वाले वॉलिंटियर दीपक की मौत के बाद उनके 18 साल के पुत्र आकाश मरावी ने अपने पिता की मौत की जानकारी मीडिया को भी दी। लेकिन अभी इस बात की पुष्टि नहीं हुई है की टीकाकरण कराने वाले वॉलिंटियर की मौत कोवैक्सीन के टीका लगाने से हुई है या किसी और कारण से इस बात की पुष्टि मृतक के पोस्टमार्टम रिपोर्ट आ जाने के बाद भी सामने आएगी हालांकि पुलिस ने विसरा को सुरक्षित रख लिया है। फिलहाल जो पहली रिपोर्ट आई है उसके अनुसार मृतक के शरीर में जहर की पुष्टि की गई है।

Whatsapp को देना होगा अपना पर्सनल डाटा नहीं तो नहीं चला पाएंगे आप व्हाट्सएप-यूजर्स नाराज

कोविड-19 के वैक्सीन का टीकाकरण कराने के बाद मृतक के पुत्र आकाश ने बताया कि उसके पिता मजदूरी करते थे और टीकाकरण के बाद से ही उन्होंने मजदूरी पर जाना बंद कर दिया था। साथ ही वह सभी कोरोना की गाइडलाइंस का पालन कर रहे थे। लेकिन अचानक ही 19 दिसंबर को उनकी सेहत बिगड़ गई।परिवार वालों ने उसे अस्पताल चलने को कहा था लेकिन वह अस्पताल जाने के लिए नहीं तैयार हुए।जिसके बाद 21 दिसंबर को उनकी मौत हो गई जिस समय उनकी मौत हुई उस समय वह अपने घर पर अकेले थे।

चिकन खाने वाले हो जाएं सावधान, आ गया है बर्ड फ्लू, कोरोना से भी है खतरनाक

इसी के आगे मृतक के पुत्र ने बताया कि 21 दिसंबर को पिताजी घर में थे और मां घर के काम से बाहर गई हुई थी। साथ ही उसका छोटा भाई बाहर खेलने गया हुआ था जब वह घर आए तो उनके पिताजी मृतक पड़े हुए थे। जिसकी सूचना उन्होंने उसी दिन पीपुल्स कॉलेज को भी दी थी। और उसी के दूसरे दिन मृतक के शरीर का सुभाषनगर विश्राम घाट पर परिवार वालों द्वारा अंतिम संस्कार भी कर दिया गया।

क्या प्रधानमंत्री को पहले नही लगवाना चाहिये कोरोना वैक्सीन?? जनता के विश्वास के लिये

Covid -19 vaccine कोवैक्सीन के ट्रायल डोज के बाद वॉलंटियर की मौत पर परिजनों ने वैक्सीन पर सवाल भी उठाए है। मृतक के पुत्र ने आगे बताया कि जब उसके पिताजी को वैक्सीन का टीका लगाया गया तो उनकी सेहत का हाल जानने के लिए अस्पताल से फोन आते रहते थे। यही नहीं 21 दिसंबर को जब उसके पिता की मौत हुई तो उसकी जानकारी लेने के लिए पीपुल्स प्रबंधन की तरफ से कई बार फोन आए लेकिन वहां से कोई भी नहीं आया। साथ ही बताया गया है कि मृतक भोपाल गैस त्रासदी का पीड़ित भी था।
कोवैक्सीन के दूसरे ट्रायल डोज के लिए पीपुल्स मेडिकल कॉलेज की थर्ड फेस क्लिनिकल ट्रायल टीम ने मृतक के पुत्र दीपक के मोबाइल पर फोन किया था। जिसपर उसने अपने पिता के निधन की सूचना भी दी। जिसको सुनने के बाद पुत्र ने बताया कि फोन करने वाले ने उसकी कॉल डिस्कनेक्ट कर दिया। हालांकि पीपुल्स मेडिकल कॉलेज के डीन डॉ अनिल दीक्षित ने कहा है कि उनको वॉलिंटियर दीपक मरावी की मौत की सूचना है। साथ ही बताया कि उन्हें क्लिनिकल ट्रायल में कोवैक्सीन की डोज गई थी। अभी उनके शव का पोस्टमार्टम कराया जा रहा है जिसकी फाइनल रिपोर्ट आना बाकी है।

बरहाल Covid -19 vaccine कोवैक्सीन के ट्रायल डोज के बाद वॉलंटियर की मौत पर परिजनों ने वैक्सीन पर सवाल भी उठाए है। तो वहीं दूसरी तरफ मृतक के शव की पोस्टमार्टम की फाइनल रिपोर्ट आ जाने के बाद ही यह बात क्लियर हो पाएगी कि आखिर उसकी मौत किस वजह से हुई है। लेकिन इस मौत से कहीं ना कहीं कोरोना वायरस को हराने के लिए तैयार की गई वैक्सीन पर सवालिया निशान खड़े होने शुरू हो गए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

हाथरस : 48 बाइको के साथ अंतर्जनपदीय वाहन चोर गिरोह के चार सदस्य हुऐ गिरफ्तार, 

हाथरस : 48 बाइको के साथ अंतर्जनपदीय वाहन चोर गिरोह के चार सदस्य हुऐ गिरफ्तार, हाथरस: बाइक चोरी का अंतर्जनपदीय गिरोह के चार सदस्यों...

काशी-बाबा विश्वनाथ के दर्शन कर राम मंदिर के लिए धन संग्रह का कार्य को हुई शुरुआत 

काशी-बाबा विश्वनाथ के दर्शन कर राम मंदिर के लिए धन संग्रह का कार्य को हुई शुरुआत राम मंदिर निर्माण-चंदे की धर्म नगरी काशी...

हाथरस में आयुर्वेदिक तेल फैक्ट्री पर छापा फैक्ट्री सील-बिना रजिस्ट्रेशन चल रहा था निर्माण

प्रतिष्ठान मालिक को समय सीमा के भीतर वैध दस्तावेज दिखाने के निर्देश दिए गए श्रीनगर में पीपल वाला चौक पर चंद्र प्रकाश के...

किसान आंदोलन-सुप्रीम कोर्ट की कमेटी हमें मंजूर नहीं- कमेटी में सरकार के ही लोग-किसान संगठन

जब तक किसी कानून वापस नहीं होंगे तब तक किसान के घर वापसी नहीं होगी कमेटी मंजूर नहीं सुप्रीम कोर्ट द्वारा बनाई गई...

Recent Comments

%d bloggers like this: