किसान
  • दूल्हे दुल्हन ने किया ऐसा कि सभी बाराती बोले-कृषि कानून वापस लो-अनोखी शादी, देखे वीडियो

  • कृषि कानून वापस लो-दूल्हे दुल्हन ने किया ऐसा-शादी से ज्यादा फिक्र किसानों की- देखे वीडियो

अमृतसर-कृषि कानून को लेकर अब दूल्हे दुल्हन को शादी से ज्यादा फिक्र किसानों की होनी लगी है। जहा पंजाब में मेहंदी वाले हाथो ने शादी में किसानी झंडा पकड़ कर किसानों के समर्थन में नारा दिया है। साथ ही दूल्हे ने मोदी की तुलना हिटलर से भी की और कहा कि पंजाबी किसान मोदी को काले कानून वापस लेने को मजबूर कर देंगे।

सिंघु बॉर्डर-चार किसान नेताओं की करनी थी हत्या- पकड़ा गया शूटर-यह किसान नेता थे निशाने पर

दूल्हा
किसानों के हक के लिये एक तरफ सभी लोगों का समर्थन मिल रहा है तो वही अब विवाह शादियों में भी दूल्हा दुल्हन की ओर से मेहंदी वाले हाथों में लाल चूड़ा पहन और दूल्हे के सर पर सेहरा बांध हाथों में किसानी झंडे पकड़ किसानों के हक में नारा भी दिया जा रहा है।
कृषि कानून
एक तरफ जहा किसान दिल्ली बार्डर पर पिछले 2 महीने से तीन कृषि कानून को रद्द करवाने के लिए धरने पर बैठे है। वहीं पंजाब में भी विवाहों पर अब किसानो के समर्थन मे आवाज़े बुलंद हो रही है। ऐसा ही एक नज़ारा अमृतसर मे एक विवाह में देखने को मिला है। यहा दूल्हा और दुल्हन दोने ने किसानी झंडे हाथो में लेकर किसानो का समर्थन करते नजर आए और केंद्र सरकार के खिलाफ रोष प्रगट करते हुए भी देखे गए।
शादीहाथो में मेहदी और शादी के लाल जोड़े मे सजी सवरी दुल्हन को खुशी होती है अपने विवाह की मगर शायद इस जोड़े को अपने विवाह की खुशी तो थी ही मगर साथ में खुशी से ज्यादा फिकर दिल्ली बार्डर पर धरने पर बैठे किसानो की थी। पूरे विवाह समारोह के दौरान दूल्हा दुल्हन ने हाथो में किसानी झंडा उठा कर रखा था। इस बारात को देखकर एक पल ऐसा लग रहा था कि यह कोई बारात नही बल्कि किसानी आंदोलन चल रहा हो।
अमृतसरविवाह में शामिल बाराती भी किसानों के हक मे नारे लगा रहे थे। दूल्हे का कहना था कि उसे विवाह की खुशी तो है मगर उस से ज्यादा फिकर दिल्ली धरने पर बैठे अपने किसानों की है । दूल्हे ने मोदी की तुलना हिटलर से की और कहा कि मोदी को यह काले कानून वापिस लेने पर पंजाबी किसान मजबूर कर देंगे। वही इस अनोखे अंदाज में किसानों का समर्थन करने का दूल्हा और दुल्हन का वीडियो भी तेजी से वायरल हो रहा है।

 

By shiraj

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *