नेपियर रोड
  • ठाकुरगंज मे प्रेरणा ज्ञानोत्सव कार्यक्रम का किया गया आयोजन-कई बालक बालिकाओं को किया गया सम्मानित

  • ठाकुरगंज मे प्रेरणा ज्ञानोत्सव कार्यक्रम मे बालक बालिकाओं को किया गया सम्मानित-हुआ कार्यक्रम का आगाज

राजधानी लखनऊ के थाना ठाकुरगंज क्षेत्र के नेपियर रोड बेसिक शिक्षा परिषद में सरकार द्वारा चलाए जा रहे हैं 100 दिन प्रेरणा ज्ञानोत्सव कार्यक्रम का आयोजन किया गया। यह कार्यक्रम स्कूलों के खुलने के पहले दिन से शुरू होकर 100 दिन तक चलाया जाएगा। तो वही इस कार्यक्रम के तहत कोरोना वायरस के बारे में बच्चों से लेकर अभिभावक को जागरूक भी करने का कार्य किया जा रहा है। इसी के मद्देनजर आज नेपियर रोड बेसिक शिक्षा परिषद प्राथमिक स्कूल में टीचरों द्वारा एक कार्यक्रम आयोजित किया गया और इस कार्यक्रम में कई बच्चों को सम्मानित भी किया गया है। साथ ही टीचरों और बच्चों द्वारा प्रदर्शनी भी लगाई गई जिसको लोगों ने काफी सराहा।

लखनऊ जू में आए लोगों के ऊपर मधुमक्खियों ने किया हमला, जान बचाने के लिए भागे लोग-देखे वीडियो

प्रेरणा

प्रेरणा ज्ञानोत्सव अभियान के अंतर्गत कोविड-19 के अनुसार जागरूकता का पालन करते हुए इस मिशन के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए एक अभियान के तहत कार्य किया जाएगा। जिसे सरकार द्वारा प्रेरणा ज्ञानोत्सव कैंपेन का नाम दिया गया है। इस कार्यक्रम में मुख्य अतिथि श्रीमती शशाक मंजरी रही तो वही ज्योति बाला शर्मा और अर्शी के नेतृत्व में इस कार्यक्रम को सम्पन्न कराया गया। यही नही इस समारोह में प्रत्येक विकास खण्ड के 10 प्रेरक बालक बालिका को उक्त प्रमाण पत्र प्रदान कर सम्मानित भी किया गया। साथ ही उन बच्चों के अभिभावकों को भी सम्मानित किया गया ।

लखनऊ पुलिस के माथे पर विशाल सैनी आत्महत्या कलंक? बिना जांच के आईपीएस को क्लीन चिट

प्रेरणा ज्ञानोत्सव शासनादेश एवम राज्य परियोजना कार्यालय के निर्देशानुसार प्रदेश के *समस्त विकास खण्ड में दिनाँक – 17 मार्च , 2021  को प्रेरणा ज्ञानोत्सव समारोह* आयोजित किया गया तो वही ठाकुरगंज स्थित प्राथमिक नेपियर रोड बेसिक शिक्षा परिषद स्कूल मे भी इस समारोह का आयोजन किया गया। वही इस अवसर पर तमाम शिक्षकों ने हिस्सा लेते हुए कोविड की जानकारी और उससे बचने के बारे में भी सभी को अवगत करवाया है।

क्या है प्रेरणा ज्ञानोत्सव

शासन द्वारा आदेशित प्रेरणा कैंपेन ज्ञान उत्सव कैंपेन 100 दिन का एक विशेष अभियान है यह अभियान विद्यालय खुलने के पहले दिन से ही प्रारंभ किया जाएगा और लगातार 100 दिन तक निरंतर परिषदीय विद्यालयों में चलेगा।
इस अभियान के अंतर्गत कोविड प्रोटोकॉल के अनुसार जागरूकता का पालन करते हुए मिशन प्रेरणा के लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए एक अभियान की तरह कार्य किया जाएगा। जिसे प्रेरणा ज्ञानोत्सव कैंपेन का नाम दिया है।
 प्रेरणा ज्ञानोत्सव कैंपेन अभियान 100 दिन तक निरंतर चलता रहेगा। जिसमें समस्त विद्यालयों में मिशन प्रेरणा के कार्यक्रमों का संचालन विद्यालय खुलने के प्रथम दिन से ही निरंतर 100 दिन तक चलता रहेगा। इस अभियान के अंतर्गत निम्नलिखित गतिविधियां आयोजित की जाएंगी।
1. अभियान को प्रारंभ करने के पूर्व खंड शिक्षा अधिकारी द्वारा सभी प्रधानाध्यापकों की बैठक की जाएगी। एवं शिक्षा चौपाल के आयोजन हेतु विस्तृत चर्चा कर कार योजना बनाई जाएगी। उक्त कार्यक्रम में एoआरoपीo, एसoआरoजीo एवं संकुल शिक्षक की विशेष भूमिका रहेगी।
2.विद्यालय खुलने के बाद प्रधानाध्यापक द्वारा नव गठित विद्यालय प्रबंध समिति (एसएमसी) के सदस्यों की बैठक बुलाई जाएगी। एसएमसी की बैठक में विद्यालय संचालन के संबंध में विस्तृत कार्य योजना बनाई जाएगी तथा शिक्षा चौपाल का आयोजन किया जाएगा।
3.विद्यालय द्वारा प्रत्येक गांव/ मोहल्ला में शिक्षा चौपाल का आयोजन किया जाएगा जिसमें एसएमसी के समस्त सदस्य,अभिभावक एवं समुदाय के लोग क्रमवार प्रतिभाग करेंगे।
4. प्रेरणा ज्ञानोत्सव के आयोजन हेतु जनपद स्तर पर जिलाधिकारी की अध्यक्षता में जनपद स्तरीय टास्क फोर्स एवं उप जिला अधिकारी की अध्यक्षता में विकासखंड स्तरीय टास्क फोर्स की बैठक आहूत की जाएगी। बैठक में टास्क फोर्स के सदस्यों/ अधिकारियों को शिक्षा चौपाल में प्रतिभाग करने हेतु निर्देशित किया जाएगा।
ज्ञानोत्सव
5. जनपद/ विकासखंड स्तरीय
टास्क फोर्स के अधिकारियों, प्राचार्य, डायट एवं मंडलीय सहायक शिक्षा निदेशक(बेसिक) द्वारा इस कैंपेन के दौरान कम से कम पांच पांच – गांव में आयोजित शिक्षा चौपाल में प्रतिभाग किया जाएगा।
6. प्रेरणा ज्ञानोत्सव के सफल क्रियान्वयन हेतु प्राचार्य, डाइट की अध्यक्षता में एसआरजी एआरपी एवं डायट मेंटर्स की पाक्षिक बैठकें आहूत की जाएंगी। तथा सर्व संबंधित द्वारा प्रत्येक माह कम से कम 10 – 10 गांव में आयोजित शिक्षा चौपाल में प्रतिभाग किया जाएगा।
7. ‘प्रेरणा ज्ञानोत्सव कैंपेन’ के दौरान उत्कृष्ट कार्य करने वाले एवं लक्ष्यों को प्राप्त करने वाले शिक्षकों को सम्मानित किया जाएगा। उक्त कार्यक्रम के संचालन में मीडिया एवं जनप्रतिनिधियों को भी जोड़ कर उनसे इस अभियान में सहयोग प्राप्त किया जाए।
8. अभिभावकों को जोड़ने के लिए शिक्षकों द्वारा गृह भ्रमण कर इस अभियान एवं कक्षा रूपांतरण के बारे में अवगत कराया जाएगा। जिससे कि प्रेरणा ज्ञानोत्सव कैंपेन को एक जन आंदोलन का रूप दिया जा सके।
 शिक्षा चौपाल में चर्चा के बिंदु
1.कोवीड प्रोटोकॉल के संबंध में बच्चों एवं अभिभावकों की जिज्ञासाओं का समाधान करना एवं जागरूक करना।
2. अभिभावकों को बच्चों के साथ समय बिताने, शैक्षणिक, गृह कार्य पूर्ण कराने एवं बच्चों को लिखित कार्य के माध्यम से अभ्यास कराने पर चर्चा करना।
3. दीक्षा एप डाउनलोड करने एवं पोस्ट पुस्तकों में दिए गए क्यूआर कोड को मोबाइल से स्कैन करके बच्चों को पढ़ने के लिए प्रेरित करना।
4. यदि बच्चा किसी अधिगम स्तर को नहीं प्राप्त कर सका है तो शिक्षकों से संपर्क करके उस अधिगम स्तर को प्राप्त करने के लिए बच्चों को प्रेरित करना।
5. शिक्षा चौपाल में मुख्य विकास अधिकारी की गरिमामय उपस्थिति में एo आरo पीo/ एसoआरoजीo द्वारा आधारशिला क्रियान्वयन संदर्शिका पर डेमो क्लास का प्रदर्शन किया जाएगा। जिससे कि शिक्षकों एवं अभिभावकों को अभी प्रेरित किया जा सके।
6. प्रत्येक शिक्षा चौपाल में एo आरo पीo अथवा शिक्षक संकुल की प्रतिभा गीता अनिवार्य होगी।

By shiraj

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *